पहला 8G फोन लॉन्च होने जा रहा है भारत में कर पाएगा पाएगा काम 8G ~ इससे सस्‍ता फोन नही मिलेगा दुनिया में, फीचर्स भी हैं लाजवाब

इस बात को कोई नहीं नकार सकता कि हमें स्मार्टफोन की लत पड़ चुकी है। हकीकत तो ये है कि आज की तारीख में ये हमारी जरूरत बन गए हैं। फोन कॉल और मैसेज तो बेहद ही बेसिक जरूरतें हैं, अब बात म्यूजिक, वीडियो और कैमरे को लेकर होती है। समझदार यूजर्स फोन के रैम, प्रोसेसर और स्क्रीन रिज़ॉल्यूशन जैसी तकनीकी चीजों की भी जानकारी चाहते हैं।

स्मार्टफोन खरीदने के पहले एक अहम बात गांठ बांध लें, जैसी जरूरत वैसा फोन। आप वही प्रोडक्ट खरीदें जो आपके यूज के हिसाब से हो। दिखावे के चक्कर में बिल्कुल ना फंसें। और अपने दोस्तों को नकल करने से तो बिल्कुल बचें। क्योंकि फोन बेहद ही निजी होता है। इस्तेमाल आपको करना है। इसके अलावा यह एक तरह का निवेश भी है, यानी एक गलत फैसला और आपका पैसा डूबा। कैमरा, प्रोसेसर, रैम, बैटरी और ब्रांड जैसे पैमानों को ध्यान में रखकर आप अपने नए फोन को चुनें, और सबसे अहम है बजट।

एक समय था जब कीपैड बटन वाले स्मार्टफोन से लोग काम करते थे। फिर समय आया स्क्रीन टच का, लेकिन देखते ही देखते यह समय भी बदल गया है। आने वाला वक्त है टचलेस टेक्नोलॉजी का। इशारों में ही डिवाइस को चलाया जा सकेगा

किसी मोबाइल फोन की स्क्रीन साइज को डायगोनली नापा जाता है। आज की तारीख में ज्यादातर स्मार्टफोन 4 से 6.5 इंच की स्क्रीन साइज़ के होते हैं। 4-5 इंच स्क्रीन वाले स्मार्टफोन को बेहतर माना जाता है, इसे हाथों में रखना भी बेहद ही कंफर्टेबल होता है। हालांकि, यह आप पर निर्भर करेगा कि आप कैसा स्क्रीन चाहते हैं। अगर आप छोटे स्क्रीन के आदी हैं तो 4-5 इंच का डिस्प्ले आपके लिए ठीक है। कुछ लोगों को ज्यादा बड़े डिस्प्ले पसंद आते हैं, उनके लिए भी मार्केट में कई विकल्प मौजूद हैं।

किसी भी स्मार्टफोन यूज़र के लिए बैटरी लाइफ सबसे अहम प्रॉपर्टी है। इन दिनों फोन रीमूवेबल और नॉन-रीमूवेबल बैटरी के साथ आते हैं। जिन स्मार्टफोन में नॉन-रीमूवेबल बैटरी का इस्तेमाल होता है वो ज्यादा स्लीक होते हैं। नॉन-रीमूवेबल बैटरी के साथ कुछ और भी फायदे हैं, बैक कवर ज्यादा सिक्योर होते हैं और फोन में पानी के घुसने और डैमेज होने की संभावना भी कम हो जाती है। पर ऐसा बिल्कुल नहीं है कि ये पूरी तरह से वाटरप्रूफ हो जाते हैं। कुछ यूज़र रीमूवेबल बैटरी को फायदेमंद मानते हैं, क्योंकि वे अतिरिक्त बैटरी साथ रखना पसंद करते हैं। पहली बैटरी खत्म हो जाने पर। उसे बदलकर दूसरी का इस्तेमाल कर लेते हैं। लेकिन अब जब मार्केट में पावरबैंक उपलब्ध हैं तो अलग से बैटरी लेकर चलने का कोई तुक नहीं बनता है। बैटरी की साइज भी अहम हो जाती है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *